February 26, 2024
Annaprashan, initiation and Vidyarambh rites were completed in the nine Kundiya Gayatri Mahayagya.

Annaprashan, initiation and Vidyarambh rites were completed in the nine Kundiya Gayatri Mahayagya.

नौ कुंडीय गायत्री महायज्ञ में अन्नप्राशन, दीक्षा व विद्यारंभ संस्कार हुआ सम्पन्न
सोनभद्र। नगर स्थित रामलीला मैदान में शां‍ति कुंज हरिद्वार के तत्वावधान में चल रहे नौ कुण्डीय नवचेतना जागरण गायत्री महायज्ञ के चतुर्थ दिवस उपस्थित भक्तों को गुरु मंत्र संस्कार से संस्कारित किया गया। इस दौरान महायज्ञ में हवन यज्ञ के साथ ही उपनयन संस्कार, दीक्षा विद्यारंभ संस्कार, नामकरण संस्कार, पुंसवन संस्कार सहित अन्य कार्यक्रम किए गए। इस अवसर पर हरिद्वार से पधारे दल नायक राधेश्याम उपाध्याय ने कहा कि, ” मनुष्य को अपने जीवन में एक ही गुरु बनाना चाहिए। मनुष्य का सच्चा मार्गदर्शक सच्चा गुरु ही होता है। जिस प्रकार हजारों तारों के प्रकाश से बढ़कर एक चंद्रमा का प्रकाश होता हैं। उसी प्रकार जीवन में अनेक गुरुओं से भला तो एक सतगुरु ही होता हैं। उन्होंने कहा कि, यज्ञ करने से मनुष्य के मानसिक शारीरिक विकार नष्ट होते हैं। मनुष्य को सांसारिक दुखों से छुटकारा मिलता हैं। जिसने यज्ञ को आत्मसात कर लिया उसका जीवन सफल हो गया। वहीं दीक्षा संस्कार के पश्चात हवन यज्ञ का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जिला समन्वयक  राजकुमार तरुण, दीपक कुमार केसरवानी, अरविंद कुमार सिंह, प्रकाश केशरी, गोविंद उमर, शिव शंकर कुशवाहा, रामदुलार विश्वकर्मा, बंशीधर मौर्य, लालता प्रसाद, सरिता जायसवाल, पुष्पा दुबे, सरोज, गीता देवी सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *