सर्वे कोटा फरमान से कायम होगा इंस्पेक्टर राज: आशीष द्विवेदी

सर्वे कोटा फरमान से कायम होगा इंस्पेक्टर राज: आशीष द्विवेदी

धीरज शुक्ला ब्यूरो चीफ (रायबरेली)

 


रायबरेली उ0प्र0: उद्योग व्यापार मंडल मिश्रागुट द्वारा जिलाध्यक्ष आशीष द्विवेदी के नेतृत्व में "वाणिज्य कर आयुक्त-लखनऊ को संबोधित ज्ञापन जिला वाणिज्य कर अधिकारी एस.एम पांडेय को सौपा गया व मांग की गई कि प्रत्येक माह 10 व्यापारिक प्रतिष्ठानों के सर्वे का कोटा निर्धारित होने के फरमान को तत्काल प्रभाव से वापस किया जाए।


व्यापार मंडल जिलाध्यक्ष आशीष द्विवेदी ने विभाग को अवगत कराते हुवे कहा कि सर्वे कोटा निर्धारित होने से न सिर्फ विभाग एवं व्यापारियों का आपसी सद्भाव बिगड़ेगा बल्कि उक्त सर्वे कोटा फरमान से कायम होगा इंस्पेक्टर राज। श्री द्विवेदी ने कहा कि विगत 40वर्षों से व्यापार मंडल द्वारा सर्वे-छापे का बिरोध किया जाता रहा है ऐसे में जबकि पूर्णरूप से जीएसटी लागू है व समस्त प्रकार की व्यापारिक खरीद-फरोख्त बिल के साथ ही होती है सर्वे कोटा का फरमान व्यापारिक उत्पीड़न को बढ़ावा देगा।


उन्होंने कहा कि 01जुलाई17 को जीएसटी लागू होने से अबतक प्रत्येक वर्ष व्यापारी द्वारा बढ़े हुवे कर के रूप में विभाग को राजस्व प्राप्त हो रही है जबकि कोई विभागीय सर्वे नही किया जा रहा है। जीएसटी में बढ़ा हुवा राजस्व व्यापारी की ईमानदारी का परिचायक है ऐसे में प्रत्येक माह 10 व्यापारियों के सर्वे के फरमान से व्यापारी समाज आहत है। 
जिलामहामंत्री मुशर्रफ खान, सत्रोंहन सोनकर, अखिलेश श्रीवास्तव आदि व्यापारी पदाधिकारियों ने सर्वे कोटा आदेश वापस लिए जाने की मांग की व कहा कि पिछली किसी भी सरकार द्वारा सर्वे कोटा निर्धारित नही किया गया व व्यापार मंडल कभी भी सर्वे का पक्षधर नही रहा। सर्वे व्यवस्था से राजस्व नही भ्रष्टाचार बढेगा। यही कारण रहा कि पिछली सरकारों में अधिकारियों द्वारा सर्वे का कोई आदेश प्रसारित नही किया गया साथ ही व्यापार मंडल व्यापारियों को इस बात के लिए बाध्य करते है कि बिना बिल-पर्चे के व्यापार न करें। इस अवसर पर अली मियां, मनोज दुबे, इस्लाम राईनी, राजू खान, अब्दुल गफ्फार, मुन्ना, संतकुमार मिश्र, आशीष यादव, दिलदार राईनी, शिवशंकर सोनकर, आदि व्यापारी पदाधिकारी उपस्थित रहे।।

Loading...
loading...