नवरात्र पर दिल्ली के मंदिरों में कोविड दिशानिर्देशों के साथ सुरक्षा के कड़े प्रबंध

नवरात्र पर दिल्ली के मंदिरों में कोविड दिशानिर्देशों के साथ सुरक्षा के कड़े प्रबंध

नयी दिल्ली 17 अक्टूबर (वार्ता) दैवीय आस्था एवं भक्ति को परिलक्षित नवरात्र के मौके पर दिल्ली के प्रमुख प्राचीन मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ के मद्देनजर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गये हैं वहीं कोरोना वायरस(कोविड-19) के परिप्रेक्ष्य में आवश्यक दिशानिर्देशों के तहत विभिन्न उपाय किये गये हैं।


शनिवार को नवरात्र का पर्व प्रारंभ होने के साथ ही राजधानी के प्रसिद्ध एवं प्राचीन झंडेवाला मंदिर , कालका जी मंदिर और छतरपुर स्थित देवी मंदिरों में मां दुर्गा के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का रेला लगना शुरू हो चुका है। नवरात्र का 17 अक्टूबर तक चलेगा। इन मंदिरों में हजारों की संख्या में परिवार समेत आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा और सुचारू दर्शन के लिए व्यापक प्रबंध किये गये हैं।

 


झंडेवाला मंदिर प्रबंध समिति के सचिव कुलभूषण आहूजा ने बताया कि कोरोना काल में सरकारी दिशानिर्देशों के दृष्टिगत 65 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्ति और 10 वर्ष से कम आयु के बच्चों तथा गर्भवती महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं दिये जाने का निर्णय लिया गया है।

बिना मास्क के किसी को भी मंदिर आने पर मनाही रहेगी। मंदिर भवन में प्रवेश करने वाले श्रद्धालुओं का थर्मल जांच की जायेगी और उन्हें सैनिटाइज किया जायेगा। मंदिर में फूलमाला और प्रसाद लाना वर्जित होगा। श्रद्धालुओं को मंदिर में बैठने की अनुमति नहीं होगी तथा देवी के दर्शनोपरांत बाहर निकलने पर निकासद्वार पर प्रसाद दिया जायेगा।


उन्होंने बताया कि सुरक्षा के लिए मंदिर परिसर और बाहर 120 सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं तथा मंदिर के सुरक्षा कर्मी और पुलिस तैनात रहेंगे।
टंडन वार्ता

Loading...