Birla Fertility & IVF Treatment : बिरला फर्टिलिटी एडआईएफ ने लाजपत नगर में अत्याधुनिक क्तिनिक का उदघाटन

बिरला फर्टिलिटी एडआईएफ ने लाजपत नगर में अत्याधुनिक क्तिनिक का उदघाटन

दिल्ली  बिरला हेल्थकेयर ने लाजपत नगर, नई दिल्ली में विरला फर्टिलिटी एंड आईवीएफ क्लिनिक का उद्घाटन किया इस क्लिनिक में मरीजों को सहानुभूतिपूर्ण विश्व स्तरीय इलाज वाजिव और किफायती दाम पर प्रदान किया जाएगा। यह क्लिनिक दिल्ली-एनसीआर, कोलकाता और लखनऊ में पहले से स्थित बिरला फर्टिलिटी एंड आईवीएफ (बीएफआई) की लिस्ट में शामिल हो गया है।

सीके बिरला हेल्थकेयर पिछले 50 से भी अधिक वर्षों से उच्च गुणवत्ता वाली स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर रहा है। वर्तमान में दिल्ली, गुड़गांव, कोलकाता और जयपुर में इसके अनेको अस्पताल है। अत्याधुनिक मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर और टेक्नोलॉजी से सुसज्जित इन अस्पतालों ने पिछले पांद दशकों में भारत में कई नवीन चिकित्सा सुविधाएं शुरू कर देश के स्वास्थ्य सेवा परिदृश्य में कई मील के पत्थर स्थापित किए हैं।

सीके बिरला हेल्थकेयर विरला फर्टिलिटी एंड आईवीएफ के साथ मिलकर नई तकनीकों और प्रक्रियाओं एवम सर्वश्रेष्ठ परिणाम से प्रजनन के भविष्य को निखारना और फर्टिलिटी केयर में विश्व स्तर पर अग्रणी ब्रांड बनना चाहता है।

क्लिनिक उद्घाटन के अवसर पर बात करते हुए, अवन्ती विरला (संस्थापक) ने कहा हमारा लक्ष्य दंपतियों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए उन्हें हाई कालिटी फर्टिलिटी इलाज प्रदान करना है। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए बिरला फर्टिलिटी और आईवीएफ हर दंपति को चिकित्सीय रूप से विश्वसनीय और भरोसेमंद इलाज प्रदान कर रहा है। प्रजनन उपचार केवल आईवीएफ के बारे में नहीं है, यह स्वस्थ प्रजनन स्वास्थ्य और उपचार को बढ़ावा देने की एक समग्र दृष्टिकोण के बारे है। "ऑल हार्ट, ऑल साइंस का मतलब है "श्रेष्ट सेवा, सर्वश्रेष्ठ, परिणाम |

लाजपत नगर में नए सेंटर के उद्घाटन पर बात करते हुए सीके बिरला हेल्थकेयर के सीईओ अक्षत सेठ कहते हैं, "भारत में लगभग 2.75 करोड़ दंपति प्रजनन संबंधित समस्याओं से पीड़ित है। लेकिन जागरूकता कमी कारण 1% से भी कम लोग इन समस्याओं के लिए मेडिकल सहायता लेते हैं। बिरला फर्टिलिटी एंड आईवीएफ में हमारा मुख्य उद्देश्य लोगों में इसके प्रति जागरूकता लाना और विश्वसनीय प्रजनन उपचार को आसानी से उपलब्ध कराना है। हम दिल्ली-एनसीआर में 10 ऐसे सेंटर्स स्थापित कर रहे हैं जो आपके आसपास ही विश्व स्तरीय फर्टिलिटी केयर प्रदान करेंगे। लाजपत नगर के अलावा, पंजाबी बाग, रोहिणी, द्वारका और गुड़गांव सेक्टर 14 और सेक्टर 51 में हमारे सेंटर स्थित है। दिल्ली-एनसीआर में अपनी उपस्थिति को और बढ़ाने के लिए अगले कुछ सप्ताह में हम पूर्वी दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा और फरीदाबाद में नए सेंटर शुरू करने वाले हैं।"

अक्षत आगे कहते हैं, "लाजपत नगर में स्थित सेंटर में हमारा राष्ट्रीय प्रशिक्षण अकादमी भी स्थापित हो रहा है। इस अकादमी में मौजूद हमारे मान्यता प्राप्त विशेषज्ञ अपने अनुभव और कोशल को अगली पीढ़ी के फर्टिलिटी डॉक्टर और एम्बरयोलॉजिस्ट के साथ साझा कर उन्हें अपने क्षेत्र में बेहतर बनने में मदद करेंगे।

साथ ही, प्रजनन क्षमता से संबंधित जागरूकता फैलाने की प्रतिबद्धता को दोहराते हुए हम देश भर में फ्री ओपीडी परामर्श और वाजिब एवं किफायती दाम पर आईवीएफ पैकेज प्रदान कर रहे हैं।" नए सेंटर खुलने के अवसर पर बिरला फर्टिलिटी एंड आईवीएफ के मेडिकल सेवाओं के प्रमुख डॉ. (कर्नल) प्रो. पंकज तलवार वीएसएम ने कहा, "हम इस बात की जागरूकता बढ़ाने की ओर काम कर रहे हैं की प्रजनन की समस्या पुरुष और महिला दोनों को प्रभावित कर सकती है। आईवीएफ इलाज के साथ-साथ हम प्रजनन उपचार की दूसरी भी अनेक सेवाएं प्रदान कर रहे हैं जिसमें पुरुष बाँझपन (मेल इनफर्टिलिटी) का इलाज और जेनेटिक स्क्रीनिंग के लिए आधुनिक सुविधाएं, स्त्रीरोग संबंधित लैप्रोस्कोपिक प्रक्रियाएं और डोनर सेवाएं शामिल हैं।

डॉ. पंकज आगे कहते हैं "हमें खुशी है कि हम फर्टिलिटी प्रिजर्वेशन (प्रजनन संरक्षण) की सुविधा भी प्रदान कर रहे हैं। इस विधि की मदद से कैंसर से पीड़ित पुरुष और महिला कैंसर इलाज के बाद संतान का सुख प्राप्त कर सकते हैं। हमारे उपचार विकल्पों की श्रृंखला में युवा कैंसर रोगियों के लिए ओवेरियन टिश्यू फ्रीजिंग भी शामिल है। हमें गर्व है कि हमने बिरला फर्टिलिटी एंड आईवीएफ में प्रदान जाने वाली सुविधाओं में एंडोमेट्रियल टेसेप्टिविटी ऐरे और प्रीइम्प्लांटेशन जेनेटिक स्क्रीनिंग भी शामिल किया है।"

प्रजनन चिकित्सा हमारा दृष्टिकोण अदितीय है। इसका उद्देश्य है एक ही जगह उन्नत और शोध-आधारित प्रजनन उपचार प्रदान कर दंपतियों की समग्र "असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्नोलॉजी (एआरटी) विधेयक लागू होने के बाद, भारत में आईवीएफ और प्रजनन उपचार के क्षेत्र में नियमों की एक परिभाषित सूची होगी। हमें विश्वास है, इससे दंपतियों को उपचार के विकल्पों और उनके अधिकारों के बारे में बेहतर जानकारी उपलब्ध होगी। साथ ही, मरीजों का सशक्तिकरण और उनकी सुरक्षा में सुधार होगा।"

 दैनिक पहल टुडे / प्रियंका कुमारी 

 

Loading...