खरखौदा थाना क्षेत्र के बलात्कार प्रकरण में निर्दोष लोगों को फसाने की कोशिश

crime

 

खरखौदा। मेरठ के खरखौदा थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी चार माह की गर्भवती युवती ने लगभग दो सप्ताह पहले गांव के ही एक युवक रोहित के खिलाफ थाने में शिकायत करते हुए दुष्कर्म के धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कराया था जिस पर तुरंत कार्रवाई करते हुए खरखौदा पुलिस ने आरोपी रोहित को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था वही दुष्कर्म के आरोपी रोहित ने अपने ही गांव के तीन अन्य युवकों अमन पुत्र राजेश, नितिन पुत्र ओमपाल तथा राजू पुत्र किरदारा पर भी आरोप लगाते हुए उनके नाम पुलिस को बताए थे । वही पीड़ित लड़की ने 161 और 164 के बयानों में रोहित पुत्र ब्रह्मपाल ग्राम निवासी अतराड़ा थाना खरखौदा का ही नाम लिया था जिस पर उपरोक्त अन्य युवकों के परिजनों ने आरोप लगाते हुए बताया कि पीड़ित लड़की के पिता उन ग्रामीणों से मोटी रकम ऐंठने की जुगत में लगा हुआ है। और उन पर फैसले के एवज मे मोटी रकम की मांग कर रहा है। वहीं ग्रामीणों ने बताया कि लड़की का पिता इन निर्दोष लोगों को फसाने के लिए अनेक बार मेरठ के एस एसपी प्रभाकर चौधरी के यहां अपनी शिकायत लेकर पहुंचा जिस पर संज्ञान लेते हुए एसएसपी मेरठ प्रभाकर चौधरी ने क्षेत्राधिकारी किठौर बृजेश सिंह को जांच करने के आदेश दे दिए जिसमें उन्होंने बताया कि जांच में कोई ऐसा साक्ष्य नही पाया गया है जिससे की अन्य लोगों को गिरफ्तार किया जाए।
वहीं इस मामले में क्षेत्राधिकारी किठौर बृजेश सिंह का कहना है कि अभी तक की जांच में कोई ऐसा साक्ष्य नहीं मिला है क्योंकि पीडित लड़की ने 161 व 164 के बयान में किसी अन्य युवक का नाम नहीं लिया है इसलिए पुलिस किसी निर्दोष को बिना वजह जेल नहीं भेज सकती

Loading...