जिले की हर गर्भवती महिलाओं एवं नवजात शिशुओं को स्वस्थ्य रखना स्वास्थ्य विभाग का दायित्व

जिले की हर गर्भवती महिलाओं एवं नवजात शिशुओं को स्वस्थ्य रखना स्वास्थ्य विभाग का दायित्व

रिपोर्ट ।   ब्यूरो प्रवीण मिश्रा


श्रावस्ती /प्रदेश सरकार हर नवजात शिशुओं एंव गर्भवती महिलाओं को स्वस्थ्य रखने हेतु प्रतिबद्ध है जिसके लिए सरकार द्वारा बच्चों एंव गर्भवती महिलाओं को स्वस्थ्य रखने के लिए उनका स्वस्थ्य परीक्षण के साथ-साथ पुष्टाहार भी दिया जा रहा है क्योंकि बच्चे देश के भाग्य विधाता हैं उन्हे स्वस्थ्य रखने के साथ ही गर्भवती महिलाओं को स्वस्थ्य रखना हम सबका नैतिक दायित्व है, इसलिए बच्चों एंव गर्भवती महिलाओं को समय से स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के साथ ही उन्हे पुष्टाहार भी समय से ही उपलब्ध कराया जाय इसमें किसी भी प्रकार की कोताही कदापि न बरती जाय नही तो संबन्धित विभागीय अधिकारियों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी।उक्त निर्देश कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित जिला स्वास्थ्य समिति बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी ओ0पी0 आर्य ने दिया है। उन्होने जोर देते हुए कहा कि अब स्वास्थ्य कार्यक्रमों को जन-जन तक पहुंचाने में लापरवाही मिली तो निश्चित ही सम्बन्धित चिकित्सक के साथ-साथ पैरामेडिकल कर्मियों को दण्डित किया जाएगा। स्वास्थ्य कार्यक्रमों एवं कार्यों के प्रति लापरवाही बरतने पर डी0सी0पी0एम0 राकेश कुमार गुप्ता का वेतन रोकने का जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया। इसके साथ ही उन्होने यह भी कहा कि मुख्य चिकित्साधिकारी अपने स्तर से समीक्षा हर सी0एच0सी0/पी0एच0सी0 पर जाकर करें और जिन स्वास्थ्य कार्यक्रमों में लापरवाही बरती पाई जाए तो सम्बन्धित चिकित्सक/पैरामेडिकल कर्मी को दण्डित अवश्य करें। इकौना के हेल्थ विजिटर तथा स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी द्वारा ढंग से कार्य ने करने पर कड़ी फटकार लगाई तथा निर्देश दिया कि किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। उन्होने जिले के प्रभारी चिकित्साधिकारियों को निर्देश दिया है कि अपने-अपने वी0एच0एन0डी0 केन्द्रो से अतिकुपोषित चिन्हित बच्चों को जिला अस्पताल में बच्चों के इलाज हेतु स्थापित एन0आर0सी0 पर भेजना सुनिश्चित करें। इसके साथ ही महिलाओं का बराबर स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाये तथा सभी सुविधाओं को प्रदान किया जाए। यदि जिले के किसी भी वी0एच0एन0डी0 सेन्टर से कोई शिकायत मिली तो सम्बन्धित चिकित्साधिकारी के खिलाफ कार्यवाही की जाय उन्होने कहा कि टीकारण में लगे चिकित्सक/पैरा मेडिकल कर्मी अपना नैतिक दायित्व समझते हुए शत-प्रतिशत बच्चों का टीकारण सुनिश्चित करें और यह भी ध्यान रखें कि कोई भी बच्चा किसी भी दशा में टीकारण से छूटने न पावे। यंहा तक कि श्रमिकों के बेटे/बेटियों को भी टीम द्वारा टीकाकरण सुनिश्चित किया जाना चाहिए। इसके साथ ही सास बहू सम्मेलन, नई पहल किट, लक्ष्य कार्यक्रम में प्रगति आदि की बिन्दुआर सूचना को प्रेषित करने का निर्देश दिया। 
इस अवसर पर जिला विकास अधिकारी विनय कुमार तिवारी, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 वी0के0 सिंह, मुख्य चिकित्साधीक्षक, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे। 

Loading...