हर विषय पर बयानबाजी करने वाले केजरीवाल दूषित पानी के मुद्दे पर चुप्पी क्यों नहीं तोड़ते हैं-मनोज तिवारी

हर विषय पर बयानबाजी करने वाले केजरीवाल दूषित पानी के मुद्दे पर चुप्पी क्यों नहीं तोड़ते हैं-मनोज तिवारी

नई दिल्ली। भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) ने दिल्ली में पेयजल की शुद्धता को लेकर बड़ा खुलासा किया है और दिल्ली जल बोर्ड द्वारा दिल्ली में सप्लाई किये जा रहे पानी को पीने लायक नहीं बताया है। इस पूरे मामले पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल की कार्यशैली की तीखी आलोचना करते हुये दिल्ली भाजपा अध्यक्ष श्री मनोज तिवारी ने कहा कि भारतीय मानक ब्यूरो की रिपोर्ट अत्यन्त चिन्तनीय है, जल है तो कल है। जल प्रकृति की वो सम्पदा है जो हमें जीवन देता है, लेकिन यदि वही जल दूषित हो जाये तो उसके सेवन मात्र से अत्यन्त गम्भीर बीमारियां भी हो सकती हैं। आज दिल्ली में वही परिस्थिति उत्पन्न हो गई है, लेकिन दिल्ली की सत्ता में बैठे मुख्यमंत्री केजरीवाल अब भी अपनी अकर्मण्यता रूपी चिरनिद्रा से जागने को तैयार नहीं हैं। मुख्यमंत्री के पास केवल एक विभाग है दिल्ली जल बोर्ड और उसकी कार्यशैली पर सबसे बड़ा सावालिया निशान लगा रही है भारतीय मानक ब्यूरो की रिपोर्ट जो यह स्पष्ट करती है कि मुख्यमंत्री दिल्ली की जनता के हितों के लिए कितने गम्भीर है।

    श्री तिवारी ने कहा कि दिल्ली की जनता ने अभी गर्मियों में वो मंजर देखा है जिसके लिए उन्हें कई खूनी संघर्षों का भी गवाह बनना पड़ा है। पानी की कमी के कारण टैंकर से पानी भरने के लिए लगी लम्बी कतारों में लोगों के बीच झगड़ा आम हो चला था। लेकिन पानी की आपूर्ति के लिए केवल घोषणाएं व विज्ञापन दिये गये, लेकिन जनता को पानी नहीं मिला। बूंद-बूंद को तरसती जनता दिल्ली जल बोर्ड के टैंकरों की राह देखने में अपना अधिकतर समय निकालती रही। मुख्यमंत्री, मंत्रियों और विधायकों के पास गुहार लगाने के बाद भी पानी लोगों को नहीं मिला। अब जब गर्मी का मौसम जा रहा है तब भारतीय मानक ब्यूरो के रिपोर्ट का आना यह स्पष्ट करता है कि दिल्ली जल बोर्ड द्वारा सप्लाई किया जा रहा पानी जहरीला है जिसने कई प्रकार के बीमारियों को जन्म दिया है।

    श्री तिवारी ने कहा कि दिल्ली को लंदन, पेरिस बनाने की बात करने वाले मुख्यमंत्री पहले जनता को मूलभूत सुविधा के रूप में पीने का शुद्ध पानी तो दिलाये क्योंकि ये वही जनता है जिसने आम आदमी पार्टी को अपना प्रचण्ड बहुमत देकर दिल्ली की कुर्सी पर बैठाया है। दिल्ली के 11 जगहों से लिए गये पानी के नमूनें की जांच बीआईएस के लैब में किये जाने पर कुछ जगहों का पानी 42 मानकों में से 12, 13 व 14 मानकों पर विफल पाए गये हैं। इन पानी के नमूनों में पीएच लेवल, घुले हुये ठोस कण और गंध व अन्य घटकों की जांच की गई जिनके मानकों के आधार पर ये नमूने किसी न किसी स्तर पर विफल पाए गये हंै।

Loading...