महिलाओं को सुरक्षा देने का दावा करने वाले केजरीवाल महिलाओं के अपमान पर चुप क्यों हैं-पूनम

महिलाओं को सुरक्षा देने का दावा करने वाले केजरीवाल महिलाओं के अपमान पर चुप क्यों हैं-पूनम

 नई दिल्ली, 9 सितम्बर। दिल्ली भाजपा कार्यालय में आयोजित पत्रकार सम्मेलन को सम्बोधित करते हुये भाजपा दक्षिणी दिल्ली नगर निगम में नेता सदन श्रीमती कमलजीत सहरावत, दिल्ली भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष श्रीमती पूनम पाराशर झा एवं भाजपा नेता श्रीमती रिचा पाण्डेय मिश्रा ने कहा कि आम आदमी पार्टी की जनसंवाद यात्रा के दौरान श्रम मंत्री गोपाल राय की उपस्थिति में आम आमदी पार्टी के विधायक ऋतुराज गोविन्द द्वारा दिल्ली भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष श्रीमती पूनम पाराशर झा पर अभद्र टिप्पणी और बेहद ही अपमान जनक शब्दों का प्रयोग किया गया, लेकिन मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल अभी तक चुप हैं, इससे साफ जाहिर होता है कि पूरी आम आदमी पार्टी महिला विरोधी है। इस अवसर पर मीडिया प्रभारी श्री प्रत्युष कंठ, सह-प्रभारी श्री नीलकांत बक्शी, मीडिया प्रमुख श्री अशोक गोयल देवराहा उपस्थित थे।

    दक्षिणी दिल्ली नगर निगम में नेता सदन श्रीमती कमलजीत सहरावत ने कहा कि आम आदमी पार्टी के विधायक ऋतुराज गोविन्द ने जिस तरह से अमर्यादित शब्दों का इस्तेमाल दिल्ली भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष श्रीमती पूनम पाराशर झा के लिये किये हैं, उसको दोहराया नहीं जा सकता। राजनीतिक लाभ लेने के लिए आम आदमी पार्टी इतने निचले स्तर तक जा सकती है और पार्टी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल फिर भी चुप हैं इससे उनकी महिला विरोधी छवि दिल्ली के सामने आ चुकी है। दिल्ली में महिलाओं को न्याय दिलाने का ढोंग करने वाली दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल भी चुप्पी साधे हुये हैं। क्योंकि स्वाति मालीवाल महिला आयोग की अध्यक्ष कम हैं आम आदमी पार्टी महिला विंग की अध्यक्ष ज्यादा हैं।

    केजरीवाल पर महिला विरोधी होने का आरोप लगाते हुये श्रीमती कमलजीत सहरावत ने कहा कि मामला चाहे संदीप कुमार का हो, सोमनाथ भारती का हो, सोनी मिश्रा का हो या फिर संतोष कोली का हो इन सबके पीछे मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल का संरक्षण प्राप्त है। इसीलिये आज तक किसी भी मंत्री या विधायक के खिलाफ उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की है। उन्होंने कहा कि अरविन्द केजरीवाल विधायक को निलम्बित करके श्रीमती पूनम पाराशर झा से मांफी मांगे। अगर अरविन्द केजरीवाल अपनी चुप्पी नहीं तोड़ते और विधायक पर कोई कार्रवाई नहीं करते तो दिल्ली की महिलायें चुप बैठने वाली नहीं हैं।

Loading...