Wed. Jul 17th, 2019

मिट्टी कला से जुड़े परिवारों को उद्योग लगाने के लिए प्रेरित कर रही है सरकार-प्रजापति

मिट्टी कला से जुड़े परिवारों को उद्योग लगाने के लिए प्रेरित कर रही है सरकार-प्रजापति

मिट्टी कला से जुड़े परिवारों को उद्योग लगाने के लिए प्रेरित कर रही है सरकार-प्रजापति

मिट्टी कला से जुड़े परिवारों को उद्योग लगाने के लिए प्रेरित कर रही है सरकार-प्रजापति
पहल टुडे ब्यूरो
रिपोर्ट – वागीश कुमार
सुलतानपुर। उत्तर प्रदेश माटी कला बोर्ड के मा0 अध्यक्ष धर्मवीर प्रजापति ने जनपद सुल्तानपुर भ्रमण के दौरान कलेक्ट्रेट में मंगलवार को आयोजित प्रेसवार्ता में कहा कि मिट्टी से जुड़े परिवारों को पट्टा देकर उद्यम व रोजगार स्थापित करने के लिए प्रदेश की योगी सरकार कृत संकल्प है। उन्होंने कहा कि प्रदेश 92 हजार गांवों में 18 जिलों के हुए सर्वे में 60 हजार परिवारों को चिन्हित किया गया है। सुल्तानपुर जिले में मिट्टी कला से लगभग एक हजार लोगो को पट्टे की भूमि का आवंटन किया गया है। अध्यक्ष धर्मवीर प्रजापति ने जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ मिट्टी कला से जुड़े लोगों के साथ नए प्रस्तावों पर भी चर्चा करते हुए कहा कि इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किये जायें। उत्तरप्रदेश माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष धर्मवीर प्रजापति ने कहा कि माटी कला से जुड़े लोगो को उद्यम स्थापित करने के लिए प्रदेश सरकार हर स्तर पर मदद मुहैय्या कराएगी, जिससे व्यापक स्तर पर लोगो को रोजगार मिलेगा। अगले माह बजट मिलने के बाद मिट्टी के कला से जुड़े लोगो को प्रदेश के 6 प्रशिक्षण केंद्रों में प्रशिक्षित कर प्रदेश सरकार उन्हें उद्यम स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित कर उन्हें अनुदान भी देने का कार्य करेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश कई जिलो में स्थापित इकाइयों में मिट्टी के फ्रीज, थर्मस, प्रेशर कुकर समेत सौ से अधिक उत्पाद निर्मित हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि रेल मंत्रालय से कुल्हड़ के प्रयोग पर वार्ता चल रही है। उन्होंने कहा कि प्रभारी मंत्री से वार्ता की गयी है कि बस स्टेशन पर मिट्टी के बर्तन के बिक्री हेतु दुकान खोली जायेगी। उन्होंने कहा कि मिट्टी के बर्तनों के प्रयोग से कई बीमारियां दूर होती हैं तथा 26 पोषक तत्व पाये जाते हैं। उन्होंने कहा कि मिट्टी के प्रेशर कुकर के प्रयोग से 90 प्रतिशत पोषक तत्व मिलते हैं, जबकि धातु से बने प्रेशर कुकर में मात्र 10 प्रतिशत पाये जाते हैं। इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किये जाने की जरूरत है।
इससे पूर्व मा0 अध्यक्ष कलेक्ट्रेट में मुख्य विकास अधिकारी मधुसूदन हुल्गी, अपर जिलाधिकारी(वि0 रा0) उमाकान्त त्रिपाठी, एसडीएम सदर, रामजी लाल, एसडीएम लम्भुआ, राजेश कुमार सिंह सहित राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर निर्देशित किया कि कुम्हारीकला के लिये दिये गये पट्टे कागजों तक ही सीमित न रहें, बल्कि धरातल पर हों। उन्होंने सभी एसडीएम तहसीलदार को निर्देशित किया कि जनपद आवंटित कुम्हारीकला पट्टे की सूची गांव सहित पूर्ण विवरण के साथ उन्हें तीन दिन के अन्दर उपलब्ध करायें तथा कुम्हारीकला के पट्टेदारों को यदि अभी तक कब्जा नहीं मिला है, तो उन्हें तत्काल कब्जा दिलाया जाये। बैठक में समीक्षा के दौरान पाया कि तहसील सदर में कुम्हारी कला के 93, लम्भुआ में 72, कादीपुर में 88, जयसिंहपुर में 193 तथा तहसील बल्दीराय में 23 पट्टे आवंटित किये गये हैं। इसका सत्यापन यथाशीघ्र सम्बन्धित राजस्व अधिकारी करना सुनिश्चित करें।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी कुम्हारीकला को बढ़ावा देने एवं कुम्हार परिवारों को प्रशिक्षित कर आगे बढ़ाने के लिये प्रयासरत है एवं गम्भीर भी हैं। इस मौके पर जिला खाद्यी ग्रामोद्योग अधिकारी एम0जेड0 खान, तहसीलदार सदर, पीयूष, तहसीलदार बल्दीराय, प्रभारी जिला सूचना अधिकारी, के0एस0मौर्य, सभासद अध्यक्ष प्रजापति समाज मंगरू, उपाध्यक्ष वीरेन्द्र भार्गव सहित प्रिन्ट इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार बन्धु आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: