Wed. Jun 19th, 2019

अर्थला झील मामला – किसी ने नहीं सुनी फ़रियाद, 29 मई से तोड़े जाएंगे निर्माण 

अर्थला झील मामला - किसी ने नहीं सुनी फ़रियाद, 29 मई से तोड़े जाएंगे निर्माण 

अर्थला झील मामला - किसी ने नहीं सुनी फ़रियाद, 29 मई से तोड़े जाएंगे निर्माण 

अर्थला झील मामला – किसी ने नहीं सुनी फ़रियाद, 29 मई से तोड़े जाएंगे निर्माण 
गाजियाबाद (पुनीत माथुर)। एक सप्ताह पहले हमने आपको बताया था कि भूमाफ़ियाओं ने कैसे अर्थला में झील के आसपास की ज़मीन भोलेभाले  लोगों को बेच कर ख़ूब पैसा बटोरा और लोगों ने यहां मकान बना लिए । करीब 550 मकान इस क्षेत्र में बन गए और नगर निगम खामोश रहा।
अब जब एनजीटी ने अर्थला झील की ज़मीन पर बने मकानों को गिराने के आदेश दे दिए हैं, नगर निगम पूरी मुस्तैदी से कार्यवाही करने पर आमादा है।
शनिवार को नगर निगम ने  पुलिस की मदद से अर्थला झील के पास बने 400 अवैध घरों की मुनादी की और इन घरों में रहने वाले लोगों को तीन दिन के अंदर मकान खाली करने के आदेश दिए हैं।
जिन घरों की मुनादी की गई है, उनकी दीवारों पर लाल रंग से क्रॉस का निशान भी बनाया गया है। घरों को खाली करवाने की जिम्मेदारी जिला प्रशासन की है।
मुनादी के वक्त नगर निगम की इस कार्रवाई का स्थानीय लोगों ने विरोध किया लेकिन भारी पुलिस बल होने के कारण उन्हें पीछे हटना पड़ा।
शनिवार को नगर निगम की ओर से करवाई गई  मुनादी में जोनल प्रभारी एस. के. गौतम, संपत्ति प्रभारी राजनरायण पांडेय, टैक्स सुप्रिटेंडेंट बनारसी दास के अलावा नगर निगम के कई कर्मचारी व अधिकारी मौजूद रहे।
अब 29 मई को नगर निगम, जिला प्रशासन और पुलिस की टीम घर खाली करवाने के लिए पहुंचेगी। इस कार्यवाही के दौरान निगम के 250 पदाधिकारी, 500 से अधिक महिला व पुरुष पुलिस कर्मी और जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहेंगे।
बता दें कि इस संबंध में पूरी रिपोर्ट जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी को 31 मई को एनजीटी में जमा करनी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

%d bloggers like this: