नकल विहिन परीक्षा कराने की खुली पोल

चन्द्र मोहन तिवारी

गाजीपुर। प्रदेश सरकार के लाख प्रयास के बावजूद नकल माफियाओं पर अंकुश लगाने मंे नाकाम रहे प्रशासन की पोल खुलती नजर आ रही है। जब ग्रामिणो की मदद से बोर्ड परीक्षा के कापी स्कूल से बाहर लिख रहे परीक्षार्थियो के गिरफतार किया गया। ग्रामीणो ने प्रशासन को फोन कर सूचना देने पर हरकत में आयी प्रशासन ने गांव में उपजिलाधिकारी कासिमाबाद, थानाध्यक्ष बड़ेसर व बेसिक शिक्षा अधिकारी के मौके पर पहुंच कर दबंगई के बल पर परीक्षा कापी भर रहे दो व्यक्तियो को गिरफतार किया। कड़ाई से पुछताक्ष करने पर अभियुक्त सत्येन्द्र चैहान पुत्र रामबदन चैहान ग्राम खड़ेसरा बलिया व संस्कार पाण्डेय पुत्र अखिलेश पाण्डेय भोजापुर बलिया ने बताया कि प्रबन्धक व प्रधानाचार्य की मिलीभगत से कई छात्रों के कापियों को विद्यालय से बाहर गांव मेे हम लिख रहे थे।

गिरफतार अभियुक्तों को बड़ेसर थानाध्यक्ष देवेन्द्र सिंह ने 419, 420 467, 468 आईपीसी व 4/10 परीक्षा अधिनियम में चालान कर दिया गया है। वही जनपद में नकल माफियाओं व परीक्षा रोकने के लिए लगाये गये सेक्टर मजिस्ट्रेटो के मिली भगत का आरोप लगाते हुए कासिमाबाद तहसील के सिंगेरा निवासी त्यागी मुखदेव सिंह ने बोर्ड परीक्षा रोकने के लिए बनाये गये सेक्टर मजिस्ट्रेट एसओसी शुक्ला को परीक्षा के दौरान परीक्षा केन्द्रो पर जाकर 20 से 25 हजार रूपये वसुल कर नकल कराने का आरोप भी लगाया और कहा कि यहा का एसओसी बिरनो महाभ्रष्ट है जो विद्यालयो पर जाकर नकल कराने के नाम पर केन्द्र व्यवस्थापक से रूपया वसुलता है। ऐसे ही कई भ्रष्ट सेक्टर मजिस्ट्रेट बनाये गये है जिनके माध्यम से नकल माफियाओं का नेटवर्क तोड़ने में प्रशासन असफल हो रही है।

नकल विहिन परीक्षा कराने में आदित्यनाथ योगी सरकार को बदनाम करने के लिए इन भ्रष्टाचारियो पर कार्यवाही नही होती है तब तक सरकार के मंशुबो को कामयाब नही होने देगे और नकल विहिन परीक्षा कराने में उ0प्र0 सरकार को बदनाम करने पर तुली हुई है।    

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed