Mon. Jul 22nd, 2019
जून से दिल्ली व कलकत्ता के लिए हवाई सेवा होगी शुरु - मनोज सिन्हा

चन्द्र मोहन तिवारी
गाजीपुर। लोकसभा चुनाव के आचार संहिता को देखते हुए अब तक के हुए सभी विकास कार्यो के उदघाटन एवं लोकार्पण की मानो झड़ी लग गयी है। जिसे देखते हुए गाजीपुर के अंधऊ हवाई अडडे से जून माह तक दिल्ली व कोलकत्ता की कनेक्टिविटी होने के साथ साथ नगर पालिका के 9 करोड़ के कार्यो का शिलान्याश कर विरोधियो के सामने कमर कस मैदान में उतर चुके है। केंद्रीय रेल व संचार राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने शनिवार को नगर पालिका परिषद द्वारा नगर जलकल विभाग में 14वां वित्त व राज्य वित्त अंतर्गत लगभग 09 करोड़ से 84 विकास कार्यों व नमामि गंगे परियोजना के तहत 06 गंगा घाटों के सुंदरीकरण व आधुनिकीकरण के शिलान्यास करने के बाद कही। सिन्हा ने कहा कि आजादी के 47 के स्थान पर अब एयरपोर्टों की संख्या 103 है।

आने वाले समय में 23 और नए एयरपोर्ट देश में बन जाएंगे। उन्होंने कहा कि नमामि गंगे परियोजना का कार्य जब प्रारंभ हुआ था तो उतनी गति नहीं थीए जितनी होनी चाहिए थी। मगर पिछले दो ढाई वर्षों में इस योजना के अंतर्गत 136 बड़ी परियोजनाएं बनीं। जिसमें 64 पर काम चल रहा है। बाकी पर काम प्रारंभ करने की स्थिति में है। गंगा को अविरल निर्मल करने का जो लक्ष्य हमारी सरकार ने रखा था। उसमें एक बड़ा मुकाम हासिल किया है। उम्मीद है कि आने वाले दो वर्षों में मां गंगा पूरी तरह अविरल निर्मल हो जाएंगी। इस देश के लोगों की जीवनदायिनी है। कानपुर जहां सबसे दूषित पानी था वहां भी काफी परिवर्तन दिखाई पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि जनपद में गाजीपुरए सैदपुर, जमानिया और गहमर आदि स्थानों को मिलाकर कुल 17 गंगा घाटों के आधुनिकीकरण का प्रस्ताव भेजा गया था। जिसमें 6 घाटों के प्रस्ताव स्वीकृत हुए हैं। आने वाले कुछ दिनों में बाकी अन्य घाटों का भी प्रस्ताव स्वीकृत हो जाएगा। इन घाटों पर इस योजना के अंतर्गत बैठने के लिए सुव्यवस्थित स्थान, उचित प्रकाश, स्वच्छ पीने का पानी व महिलाओं के लिए वस्त्र बदलने की व्यवस्था की जाएगी। रेल राज्य मंत्री ने कहा कि 2014 से पहले पूर्वी उत्तर प्रदेश काफी उपेक्षित रहा है। भारत सरकार की बड़ी परियोजनाएं पूर्वी उत्तर प्रदेश में नहीं आ पाती थीए लेकिन जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार बनी है।

संसद में अनेकों बार अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने पूर्वी उत्तर प्रदेश का जिक्र किया है। वह सिर्फ भाषण नहीं उसका धरातल पर विकास कर पूर्वी उत्तर प्रदेश को आगे लाने की पूरी कोशिश भी की है। पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों की एक बड़ी मांग थी कि बनारस के सर सुंदरलाल चिकित्सालय को दिल्ली के एम्स जैसा बनाया जाए। इस कार्य पूर्वी उत्तर प्रदेश और बनारस को काफी इंतजार करना पड़ा। लेकिन अब उस दिशा में काम तेजी से हो रहा है। उन्होंने कहा कि पहले लोग बहुत नहीं सोचा करते थे। गड्ढे में सड़क की सड़क में गड्ढा इसमे फर्क करना मुश्किल थाए लेकिन आज युवा जब गूगल के माध्यम से वाशिंगटन की सड़कों और रेलवे स्टेशनों को देखता है तो उसके मन में भी यह कल्पना रहती है कि उसके देश में भी ऐसी सड़के और स्टेशन बने। उस कल्पना को मूर्त रूप प्रदान करने की दिशा में नरेंद्र मोदी सरकार ने पूर्वी उत्तर प्रदेश में पिछले साढ़े 4 वर्षों में रेल व सड़क के विकास पर 88 हजार करोड रुपए खर्च किए हैं। अध्यक्ष सरिता अग्रवाल के कार्यो को सराहते हुए उनके विकास कार्यो का जायजा भी लिया। इनके साथ पूर्व अध्यक्ष विनोद अग्रवाल, राजबिहारी राय, ब्यासमुनि राय, ईओ नगर पालिका परिषद गाजीपुर अपने समस्त स्टाफ सहित मौजुद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: